क्रोध । Krodh

-poetry-

कांप रहा होता तन
विचलित हो जाता है मन

खुद पर खुद का काबू खो जाता है
अंदर का इंसान मानो सो जाता है

जेहन और जबान पे रहते है शोर
खुद को सही साबित करने की होती है होर

खुद को इतना बड़ा बना लेते है कि दूसरों की बात सह न सके
चिल्लाते और हाथ उठते है कि कोई कुछ कह न सके

“वो तुमसे डरता नही
तुम उस से डर सकते नही
पीछे हट गए तो लोग क्या कहेंगे
अब तो फैसला लड़ कर ही करेंगे”

कुछ ऐसे ही ख्याल आते है
पल भर में रिश्ते तोर जाते है

घिर्ण आती है खुद पर जब गलती का एहसास होता है
हु सबसे बुरा इंसान ऐसा महसूस होता है

क्या करूँ अब सब समझ से बाहर लगता है
अंदर का इंसान मानो झट पट से जगता है

उदासी और पछतावे के अलावा कुछ हाथ नही आता है
खुद को बदलने की सिवा कोई रास्ता नही रह जाता है

पर जब क्रोध का सैलाब आता है
वह खुद को दोहराता
और सब कुछ बिखर जाता है

Author’s note: 

Its about short tempered situation and the repentance afterwards keep us in a  loop unless we break through the habit of not being aware of our impulses and reactance.

हारा हुआ । Hara hua

– poetry-

खुद को हरा समझते समझते , जितना भूल गए 

अब हाल यू है कि खुद को जीता समझने में भी हार जाते है ।

चारो तरफ उजाला था । Charo Taraf Ujaala Tha…

when words reflect life, its a poetry…
Here is the poem we all can relate to, we all get stuck somewhere at some point of life … 🙂
Lets conquer it together…

जब घनघोर अँधेरा छाया
खुद को खुद में ही अकेला पाया,
घबराया चिल्लाया शोर मचाया
पर अफ़सोस कुछ हाथ न आया।

होक उदास इस अँधेरे में
मौन, खुधको इसमें ढलने लगा,
“ऐसा ही होता है दुनिया में” कह के
खुद को ठगा।

एक दिन यूँ ही एकांत बैठा,
दूर छोटी सी रौशनी नजर आयी,
पर तब तक इतना ढल चूका था इस अँधेरे में
की ये आंखे उस पर भरोसा न कर पायी।

मुँह फेर लिया यह सोच के
की है ये बस एक धोखा,
बढ़ चला अँधेरे में दूर,
न किसी ने रोका।

अब तोह यह स्याह सी दीवारे
सच्ची लगने लगी,
इनकी तन्हाई और उदाशि भी
अच्छी लगने लगी।

चल रहा था इस तेज़ी में की
जैसे अब रुकना ही न था,
लेकिन मुक़द्दर में था कुछ और,
ज़िंदगी को ये मंजूर कहा था।

जा टकराया इन दीवारों में
फिर इनके होने का एहसास हुआ,
बंद हु एक पिंजरे में
जान के निरास हुआ।

काफी तरीके सोचे इस पिंजरे
को तोरने के लिए,
नाकाम, उदास जब पिंजरे को करीब से देखा,
तो एक सच सामने आया जो काफी था मुझे
झकझोरने के लिए।

पिंजरा तो था ही नहीं
जिसे मई तोर रहा था,
खुद को बेवजह ही
निचोड़ रहा था।

फिर मुझे उस छोटी सी रौशनी
का ख्याल आया,
आस पास देखा तो
उसे सामने ही पाया।

वो तो हमेसा यही थी
बस मई कही खो गया था,
मनो जाग रहा अब उस नींद से
जिसमे वर्षो से सो गया था।

यह रौशनी तोह उस पट्टी के छेड़ से आ रही थी
जिसे मैंने जाने अनजाने में डाला था ,
जैसे ही उतार फेका
तो चारो तरफ उजाला था
चारो तरफ उजाला था।

Written by: Harsh Vardhan (admin of the blog)

Author’s note:

This poem is based on situations where we get stuck in our life just because of our wrong perspective and belief.
When we realize things are falling apart and are beyond our control, we panic, we try heedlessly over and over to take over the control and guess what? We fail… we fail badly because we were ignorant, we refused to see the reality but when we become aware our own flaws and perspective we get to know darkness was within not everywhere else.

It’s like dawn to a world full of possibilities…
🙂

GUY PLEASE LIKE AND FOLLOW IF YOU REALLY LIKE THIS WORK, YOUR FEEDBACK WILL MOTIVATE ME TO WRITE MORE
🙂

    *PRESENTED IN HINDI*

Life is a poetry…

Here is the poem we all can relate to, we all get stuck somewhere at some point of life … 🙂
Lets conquer it together… 🙂

Charo taraf ujaala tha…

Jab ghangor andhera chhaya
Khud ko khud me hi akela paya
Ghabraya chillaya shor machaya
Par afsos kuch hath na aaya

Hoke udaas is andhere me,
Moun, khudhko isme dhalne laga
“aisa hi hota hai duniya me” keh ke
Khud ko thaga

Ek din yun hi ekaant baitha,
Dur chhoti si roushni najar aayi
Par tab tak itna dhal chuka tha is Andhere me
ki ye ankhe us par bharosa na kar paayi

Muh fer liya yeh soch ke
Ki hai ye bas ek dhokha
Badh chala andhere me dur,
Na kisi ne roka

Ab toh yeh syah si diware
Sachhi lagne lagi
Inki tanhai aur udashi bhi
achhi lagne lagi

Chal raha tha iss tezi me ki
Jaise ab rukna hi na tha
Lekin muqaddar me tha kuch aur,
Zindgi ko ye manjur kaha tha

Za takraya in diwaro me
Phir inke hone ka ehsaas hua
Band hu ek pinjre me
Jaan ke niraas hua

Kafi tarike soche iss pinjre
Ko torne ke liye
Nakaam, Udaas jab pinjre ko karib se dekha
Toh ek sach saamne aaya jo kaafi tha muje
jhakjhorne ke liye

Pinjara to tha hi nahi
Jise mai tor raha tha
Khud ko bewajah hi
Nichor raha tha

Phir mujhe uss chhoti si roushni
Ka khayal aaya
Aas paas dekha to
Use saamne hi paya

Who toh hamesa yahi thi
Bas mai kahi kho gya tha
Mano jag raha ab us nind se
Jisme varsho se so gya tha

Yeh roshni toh us paatti k chhed se aa rahi thi
Jise maine jane anjane me dala tha
Jaise hi utaar feka
Charo taraf ujala tha
Charo raraf ujala tha…

Written by: Harsh Vardhan (admin of the blog)

Author’s note:

This poem is based on situations where we get stuck in our life just because of our wrong perspective and belief.
When we realize things are falling apart and are beyond our control, we panic, we try heedlessly over and over to take over the control and guess what? We fail… we fail badly because we were ignorant, we refused to see the reality but when we become aware our own flaws and perspective we get to know darkness was within not everywhere else.

    It’s like dawn to a world full of possibilities…

🙂

GUY PLEASE LIKE AND FOLLOW IF YOU REALLY LIKE THIS WORK, YOUR FEEDBACK WILL MOTIVATE ME TO WRITE MORE 🙂

Charo taraf ujaala tha (pdf)

Charo taraf ujaala tha (docx)