फिर कभी । Phir kabhi

-poetry-

Advertisements

“चाहता हु कभी, की जीत लू ये जमी

पर रोक लेती है ये आदत, कहने की फिर कभी”