हारा हुआ । Hara hua

– poetry-

Advertisements

खुद को हरा समझते समझते , जितना भूल गए 

अब हाल यू है कि खुद को जीता समझने में भी हार जाते है ।